khabar7 logo
shradhha

आज मनाई जा रही संकष्टी चतुर्थी, इस पूजन विधि से प्रसन्न होंगे गणपति !!

by Khabar7 - 30-Apr-2021 | 09:51:18
आज मनाई जा रही संकष्टी चतुर्थी, इस पूजन विधि से प्रसन्न होंगे गणपति !!

30 अप्रैल 2021,

नई दिल्ली !!

आज संकष्टी चतुर्थी मनाई जा रही है. इस दिन पूरे विधि-विधान से भगवान गणेश की पूजा की जाती है. हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले भगवान गणेश की अराधना की जाती है. संकष्टी चतुर्थी का अर्थ होता है संकट को हरने वाली चतुर्थी. ऐसी मान्यता है कि, संकष्टी चतुर्थी के दिन भगवान गणपति की पूजा करने से सारी समस्याएं दूर होती हैं और इच्छाओं की पूर्ती होती हैं|
 
कब आती है संकष्टी चतुर्थी ?

संकष्टी चतुर्थी हर महीने की कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाई जाती है. पूर्णिमा के बाद आने वाली चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं और अमावस्या के बाद आने वाली चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहते हैं.  संकष्टी चतुर्थी को भगवान गणपति की आराधना करके विशेष वरदान प्राप्त किया जा सकता है और सेहत की समस्या को भी हमेशा के लिए खत्म किया जा सकता है|

संकष्टी चतुर्थी पर कैसे करें पूजा ?

भगवान गणपति में आस्था रखने वाले लोग संकष्टी चतुर्थी पर व्रत रखकर उन्हें प्रसन्न करके मनचाहे फल की कामना करते हैं. स्नान करके साफ हल्के लाल या पीले रंग के कपड़े पहनें. भगवान गणपति के चित्र को लाल रंग का कपड़ा बिछाकर रखें.  भगवान गणेश की पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुंह करें. भगवान गणपति के सामने दीया जलाएं और लाल गुलाब के फूलों से भगवान गणपति को सजाएं. पूजा में तिल के लड्डू गुड़ रोली, मोली, चावल, फूल तांबे के लौटे में जल, धूप, प्रसाद के तौर पर केला और मोदक रखें. भगवान गणपति के सामने धूप दीप जलाकर उनको मंत्रों का जाप करें|

संकष्टी चतुर्थी का महत्व -

मान्यता है कि संकष्टी के दिन गणपति की पूजा करने से घर से नकारात्मक प्रभाव दूर होते हैं. कहा जाता है कि गणेश जी घर की सारी विपदाओं को हर लेते हैं. जो व्यक्ति आज के दिन व्रत रखता है और पूरे आस्था के साथ पूजा करता है, गणपति उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. ये व्रत सूर्योदय से प्रारम्भ होता है और चंद्र दर्शन के बाद संपन्न होता है|

Share: