khabar7 logo
delhi-ncr

सिब्बल बोले- जीतेजी भाजपा में नहीं जाऊँगा, जितिन के बहाने सोनिया गांधी को नसीहत, बिना बात सुने आप राजनीति में नहीं रह सकते !!

by Khabar7 - 10-Jun-2021 | 16:26:11
सिब्बल बोले- जीतेजी भाजपा में नहीं जाऊँगा, जितिन के बहाने सोनिया गांधी को नसीहत, बिना बात सुने आप राजनीति में नहीं रह सकते !!

10 जून 2021,

हाईलाइट्स -

कांग्रेस में अंदर ही अंदर सुगबुगाहट तेज !

जितिन के बाद अब कई और नेता भी चर्चा में !

सच्चे कांग्रेसी हैं कपिल सिब्बल !

नई दिल्ली !!

पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने के बाद अब कांग्रेस में अंदर ही अंदर सुगबुगाहट तेज हो गई है। जितिन के बाद अब उन नेताओं की चर्चा है जो पार्टी आलाकमान से असंतुष्टि जाहिर कर चुके हैं। इस बीच वरिष्ठ नेता और कांग्रेस के G-23 के सदस्य कपिल सिब्बल ने दावा किया कि वह सच्चे कांग्रेसी हैं और भाजपा में कभी नहीं जाएंगे। उन्होंने जितिन के भाजपा में जाने पर हैरानी जताने के साथ ही पार्टी नेतृत्व को इशारों में मेसेज दिया।

कांग्रेस छोड़ने के सवाल पर कपिल सिब्बल ने कहा, 'हम सच्चे कांग्रेसी हैं, मैं अपने जीवन में कभी भी भाजपा में शामिल होने के बारे में नहीं सोचूंगा। उन्होंने कहा कि 'ऐसे फैसले को मेरे मृत शरीर से होकर गुजरना होगा। हो सकता है कि अगर कांग्रेस नेतृत्व मुझे जाने के लिए कहता है, तो मैं उस आधार पर पार्टी छोड़ने के बारे में सोच सकता हूं, लेकिन भाजपा में शामिल नहीं होऊंगा।'

जिस पार्टी को गाली देते थे, वही जॉइन कर ली !

जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने कपिल सिब्बल ने कहा, 'जितिन ने जो किया मैं उसके खिलाफ नहीं हूं, जरूर कोई वजह रही होगी जो जाहिर नहीं हुई है लेकिन भाजपा से जुड़ने का फैसला मैं समझ नहीं सकता। यह बताता है कि हमने 'आया राम गया राम' से 'प्रसाद' पॉलिटिक्स का रुख कर लिया है। जहां प्रसाद मिले वह पार्टी जॉइन कर लो।'

कांग्रेस लीडरशिप को कपिल सिब्बल की नसीहत !

पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने आगे कहा, 'जिस पार्टी के मंच से आप रोज भाजपा को गाली देते थे, सांप्रदायिक और देशविरोधी बताते थे। आज आप वही पार्टी जॉइन कर रहे हैं। राजनीति में जब तक विचारधारा के आधार पर आगे नहीं चलेंगे तो ऐसा लगेगा कि ये प्रसाद पॉलिटिक्स है।' कांग्रेस को मेसेज देते हुए सिब्बल ने कहा, 'मैं मानता हूं कि लीडरशिप को पता है कि समस्या क्या है और मुझे उम्मीद है कि लीडरशिप सुनेगा क्योंकि बिना दूसरे की बात सुने आप राजनीति में नहीं रह सकते। अगर आप सुनेंगे नहीं तो आपके बुरे दिन शुरू हो जाएंगे।'

G23 में जितिन प्रसाद भी शामिल थे !

कांग्रेस में जी-23 समूह के सदस्यों पर एक बार नजरें टिकने लगी हैं, जिन्होंने पार्टी की हाई कमान सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस में व्यापक सुधारों की सिफारिश की थी। दिलचस्प यह है कि कपिल सिब्बल के अलावा जितिन प्रसाद खुद भी उन 23 नेताओं में शामिल थे। बहरहाल जितिन प्रसाद के कांग्रेस से एग्जिट के बाद पार्टी के कई नेताओं ने खेद जताया।

जितिन पारंपरिक रूप से कांग्रेसी थे : खड़गे !

इससे पहले राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, 'जितिन प्रसाद पारंपरिक रूप से कांग्रेसमैन थे, हमने उन्हें सम्मान दिया, उन्हें नजरअंदाज नहीं किया गया था। वह महासचिव थे, बंगाल के प्रभारी थे और हर बार चुनाव लड़ने की इजाजत दी गई। इसके बावजूद अगर वह कांग्रेस और उसकी विचारधारा को दोष दें जिसके लिए उन्होंने और उनके पिता ने काम किया, तो यह दुखद है।'

वहीं जितिन प्रसाद ने कहा कि उन्होंने बहुत सोच-विचारकर भाजपा में जाने का फैसला किया है। जितिन ने कहा, 'मेरा तीन पीढ़ियों से कांग्रेस का साथ रहा, ये निर्णय आसान नहीं था। बहुत सोच-विचार और अंतरआत्मा की आवाज के बाद ये निर्णय लिया। आज के परिप्रेक्ष्य में भारत के सामने जो चुनौतियां हैं और देश के हित में भाजपा और PM का नेतृत्व सबसे सक्षम है।'

जिनकी मानसिकता छोटी, वह छोटे ही रहेंगे !

मध्य प्रदेश कांग्रेस के ट्वीट पर जितिन ने कहा, 'मैं कोई कमेंट नहीं करूंगा, हर कोई आलोचना के लिए मुक्त है। जिन लोगों का माइंडसेट छोटा है, वह छोटे ही रहेंगे। मैंने हर किसी की आलोचना को प्रसाद की तरह लिया है। मैं मानता हूं कि मेरा फैसला सही है और देश के हित में है।' दरअसल एमपी कांग्रेस ने मध्य प्रदेश कांग्रेस ने पार्टी से उनकी विदाई पर खुशी जताते हुए उन्हें 'कूड़ा' बता दिया था। एमपी कांग्रेस के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट को कुछ मिनट बाद ही डिलीट कर दिया गया था।

Share: