khabar7 logo
chikitsa

गर्भावस्था में ये दवा लेने से बच्चा बन सकता है मानसिक रोगी, इन बातों का रखें ध्यान !!

by Khabar7 - 04-Jun-2021 | 18:59:16
गर्भावस्था में ये दवा लेने से बच्चा बन सकता है मानसिक रोगी, इन बातों का रखें ध्यान !!

04 जून 2021,

नई दिल्ली !!

गर्भावस्था किसी भी महिला के जीवन का सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। विशेषज्ञ कहते हैं कि इस दौरान खान-पान अच्छा रखने का सीधा असर गर्भ में पल रहे शिशु के सेहत पर पड़ता है। यही कारण है कि इस दौरान महिला को अपने सेहत का विशेष ख्याल रखते हुए पौष्टिक आहार के सेवन की सलाह दी जाती है। गर्भावस्था जितना महत्वपूर्ण समय होता है, माँ और बच्चे दोनों के लिए यह उतना ही नाजुक भी होता है। इस दौरान अस्वस्थ आदतें बच्चे पर दीर्घकालिक प्रभाव डाल सकती हैं। इतना ही नहीं गर्भकाल के दौरान महिलाओं को दवाइयों के सेवन के प्रति भी विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है, क्योंकि गलत दवाओं का असर बच्चे के स्वास्थ्य को तमाम प्रकार के जोखिम में भी डाल सकता है।

इसी से संबंधित हाल ही में हुए एक अध्ययन में विशेषज्ञों ने बताया है कि बुखार के दौरान प्रयोग में लाई जाने वाली एक सामान्य सी दवा का गर्भकाल में ज्यादा सेवन बच्चे के मानसिक सेहत को प्रभावित कर सकता है। आइए इस लेख में जानते हैं कि विशेषज्ञों ने अध्ययन में किस दवा के सेवन को लेकर सावधान किया है, साथ ही यह बच्चे को किस प्रकार से प्रभावित कर सकता है?
 
बच्चों में ऑटिज्म की समस्या -

अध्ययन के दौरान वैज्ञानिकों ने पाया कि गर्भावस्था के दौरान जिन महिलाओं ने पैरासिटामोल (एसिटामिनोफेन) का ज्यादा सेवन किया उनके बच्चों में मानसिक रोगों की समस्या देखने को मिली। जो बच्चे जन्म से पहले पैरासिटामोल के संपर्क में आए उनमें से 19 फीसदी बच्चों को ऑटिस्टिक स्पेक्ट्रम कंडीशन (ASC) वहीं 21 फीसदी बच्चों में एडीएचडी के लक्षण देखे गए।
 
बच्चों के मानसिक सेहत पर असर -

अध्ययन के लेखक जोर्डी सनयर बताते हैं कि इस अध्ययन के आधार पर यह कहा जा सकता है कि गर्भवती महिलाओं या बच्चों को पैरासिटामोल का सेवन तभी करना चाहिए, जब इसकी बहुत ज्यादा जरूरत हो। छोटी-छोटी समस्याओं में पैरासिटामोल का सेवन बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। इससे बच्चों को चिड़चिड़ापन, ध्यान केंद्रित न कर पाने, चीजों को भूल जाने जैसी तमाम तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

गर्भावस्था के दौरान इन बातों का रखें ध्यान -

- महिला रोग विशेषज्ञ बताती हैं कि गर्भकाल में महिलाओं को स्वास्थ्य का विशेष ख्याल रखने की जरूरत होती है। यह पांच बातें सभी को ध्यान में रखनी चाहिए।
- गर्भावस्था के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तनों के कारण महिलाओं को ऊर्जा में कमी महसूस हो सकती है। छोटी-छोटी नींद लेने से भी इस तरह की समस्याओं को कम किया जा सकता है। गर्भावस्था में पर्याप्त नींद मां और बच्चे दोनों की सेहत को ठीक रखने के लिए बेहद जरूरी है।
- गर्भावस्था के दौरान शरीर को हाइड्रेटेड रखना बेहद आवश्यक है, समय-समय पर पानी पीती रहें।
- गर्भावस्था के दौरान कैफीन के अधिक सेवन से बचना चाहिए, यह बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।
- गर्भवती महिलाओं को धूम्रपान बिल्कुल नहीं करना रहना चाहिए।
- व्यायाम करने से मानसिक सेहत और गर्भावस्था के कारण होने वाली जटिलताओं को कम किया जा सकता है। किसी विशेषज्ञ की सलाह पर नियमित रूप से हल्के स्तर के व्यायाम जरूर करें।

Share: