khabar7 logo
uttar-pradesh

कोरोना : महानगर का गांधीनगर नर्सिंग होम मामला, टेस्ट कराए गए सभी सैम्पल्स की रिपोर्ट्स संदिग्ध !!

by Khabar7 - 22-Apr-2020 | 11:59:19
 कोरोना : महानगर का गांधीनगर नर्सिंग होम मामला, टेस्ट कराए गए सभी सैम्पल्स की रिपोर्ट्स संदिग्ध !!

22 अप्रैल, 2020,

मुरादाबाद ब्यूरो !!

गांधीनगर के नर्सिंग होम में संक्रमित महिला शीला वर्मा के इलाज का मामला सामने आने के बाद हड़कंप मच गया था, खुलासे के इसके बाद CMO के आदेश से इस नर्सिंग होम को बंद करवा दिया गया था, अब उस मामले में एक नया मोड़ आ गया है।

आपको बता दें कि इस मामले का सबसे पहले खुलासा "खबर7" ने ही किया था। 

नर्सिंग होम प्रबंधन इस मामले में अपना लापरवाही भरा रवैया छोड़ने को तैयार नहीं है| पहले तो कोरोना संक्रमित महिला के मामले में लापरवाही, उसके पश्चात स्टाफ के सभी सदस्यों का कोरोना टेस्ट नहीं करवाने की लापरवाही और अब छह सदस्यों की सैंपल रिपोर्ट को लेकर लापरवाही।

कोरोना टेस्ट सैंपल लेने की उचित व्यवस्था !

कल महानगर के सभी समाचार पत्रों में नर्सिंग होम स्टाफ की कोरोना सैंपल रिपोर्ट नेगेटिव आने की खबर प्रबंधन के हवाले से छपी थी। नर्सिंग होम प्रबंधन द्वारा अपने स्टाफ के सैंपल कलेक्शन हेतु रामपुर की पैथकाइंड फ्रेंचाइजी 'सचिन कलेक्शन सेंटर" से संपर्क किया गया था जबकि महानगर में ही कोरोना टेस्ट सैंपल लेने की उचित व्यवस्था है, स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा भी सैंपल लगातार लिया जा रहा है, ऐसे में नर्सिंग होम प्रबंधको द्वारा महानगर को छोड़कर रामपुर की कलेक्शन सेंटर को ही टेस्ट सैंपल देने की क्या वजह रही यह समझ से परे है।

कब और किसके और किसे दिए गए सैंपल ?

शीला वर्मा के कोरोना संक्रमित होने का आभास शायद नर्सिंग होम प्रबंधकों को हो गया था। इसीलिए नर्सिंग होम के संचालक मालिक डॉ सीपी सिंह ने अपना व अपने स्टाफ के कुछ सदस्यों का कोरोना टेस्ट सैंपल देने का निर्णय किया|

रामपुर की सचिन कलेक्शन सेंटर द्वारा नर्सिंग होम के चिकित्सक डॉ. सीपी सिंह उनके सहायक मनदीप कुमार, मोहम्मद तोसीब, नासिर हुसैन सैफी सहित श्रीमती मीना और रीता कुमारी के सैंपल दिए गए यह सभी सैंपल शाम 5:00 बजे से 6:00 के बीच नर्सिंग होम में ही कलेक्शन सेंटर की टीम ने लिए, जबकि महानगर में भी पैथकाइंड का कलेक्शन सेंटर हैं, और इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य विभाग द्वारा भी लगातार सैंपल लिए जा रहे हैं। कोरोना संक्रमितों की तलाश में भी सभी सैंपल स्वास्थ्य विभाग द्वारा ही लिए जा रहे हैं ऐसे में नर्सिंग होम प्रबंधन द्वारा रामपुर के कलेक्शन सेंटर को कोरोना टेस्ट सैंपल देने की बात समझ से परे है।

नर्सिंग होम प्रबंधकों द्वारा समाचार पत्रों को दी गई जानकारी में टेस्ट सैंपल रिपोर्ट के बारे में नेगेटिव आने की जानकारी दी गई है जबकि सभी रिपोर्ट्स मे लैब द्वारा रिपोर्ट को इनकनक्लूसिव यानी संदिग्ध बताया गया है|

क्या लिखा है रिपोर्ट में ?

आइये आपको बताएं कि रिपोर्ट्स में क्या लिखा है -

डॉ सी.पी. सिंह व उनके स्टाफ सदस्यों की कोरोना टेस्ट हेतु भेजे गए सभी सैंपल की रिपोर्ट एक समान आई है, और सभी रिपोर्ट्स में नए सैंपल के साथ पुनः जांच की संतुष्टि की गई है, रिपोर्ट में इंटरप्रिटेशन में साफ तौर पर यह लिखा गया है।
👇🏻
A repeat testing on fresh sample is recommended

इसका साफ मतलब है कि,
एक नए सैंपल पर पुनः जांच की संस्तुति की जाती है।

रिपोर्ट को नेगेटिव नहीं कहा जा सकता !

संदिग्धता के आधार पर पुनः जांच से पहले इस रिपोर्ट को अगर पॉजिटिव नहीं माना जाता तो, नेगेटिव भी नहीं कहा जा सकता और निश्चित तौर पर करोना संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए नर्सिंग होम प्रबंधन को न केवल उक्त सभी छह लोगों के कोरोना टेस्ट सैंपल पुनः देने चाहिए और और जिन बकाया 14 स्टाफ सदस्यों की जांच हुई ही नहीं है उनकी भी कोरोना जांच करवाई जानी चाहिए।

पुनः जांच करवाएंगे : CMO एम.सी. गर्ग !

इस विषय में जब CMO एमसी गर्ग से बात की गई और पूछा गया की रिपोर्ट संदिग्ध आने पर पुनः जांच का प्रावधान है और स्वास्थ्य विभाग भी इसका अनुसरण करता है तो ऐसे में क्या डॉक्टर सी पी सिंह व उनके स्टाफ की जांच रिपोर्ट जो संदिग्ध आई है क्या उन सभी की पुनः जांच की जाएगी, उनका कहना था कि सीपी सिंह व उनके स्टाफ की रिपोर्ट अभी उन्हें नहीं मिली है रिपोर्ट मिलने पर नियमानुसार उनकी व स्टाफ की जांच स्वास्थ्य विभाग द्वारा करवाई जाएगी।

नर्सिंग होम प्रबंधन द्वारा संदिग्ध रिपोर्ट को इस प्रकार लापरवाही दिखाते हुए नेगेटिव बता देना और आगे के लिए भी कोई सावधानी नहीं बरतना गांधीनगर क्षेत्र के लोगों के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है।

कोरोना संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए CMO एमसी गर्ग को चाहिए कि डॉक्टर सी पी सिंह इन छह सदस्यों के साथ ही समस्त स्टाफ की जांच तुरंत स्वास्थ्य विभाग द्वारा करवाई जाए जिससे क्षेत्र के लोगों के मन में जो भय है व्याप्त है वो दूर हो सके।

Share: