khabar7 logo
maharashtra

महाराष्ट्र में पतंजलि के 'कोरोनिल' को बिक्री की इजाजत नहीं, गृहमंत्री ने बताई ये वजह !!

by Khabar7 - 23-Feb-2021 | 17:27:14
महाराष्ट्र में पतंजलि के 'कोरोनिल' को बिक्री की इजाजत नहीं, गृहमंत्री ने बताई ये वजह !!

23 फरवरी 2021,

हाईलाइट्स -

कोरोनिल टैबलेट पर स्वास्थ्य मंत्री से की स्पष्टीकरण की मांग !

दो वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियो द्वारा सराहना उचित नहीं !

मुंबई !!

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि पतंजलि की कोरोनिल दवा की बिक्री को महाराष्ट्र में विश्व स्वास्थ्य संगठन और IMA से उचित प्रमाणीकरण के बिना अनुमति नहीं दी जाएगी. देशमुख ने ट्वीट करते हुए ये बात कही है. राज्य के गृहमंत्री की प्रतिक्रिया एसे समय में आई है जब इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने कोरोनिल टैबलेट पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से स्पष्टीकरण की मांग की है|

अनिल देशमुख ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा, "कोरोनिल के तथाकथित परीक्षण पर IMA ने सवाल उठाए हैं और WHO ने कोविड के उपचार के लिए पतंजलि आयुर्वेद को किसी भी प्रकार कि स्वीकृति देने से इंकार किया है. ऐसे में जल्दीबाज़ी में किसी भी दवा को उपलब्ध करवाना और दो वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियो द्वारा सराहना उचित नहीं"|

क्या है पूरा मामला ?

पतजंलि की कोरोनिल टैबलेट को विश्व स्वास्थ्य संगठन से प्रमाण पत्र मिलने की बात को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने सोमवार को सरासर झूठ करार देते हुए आश्चर्य प्रकट किया और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन से इस बाबत स्पष्टीकरण की मांग की. पतंजलि का दावा है कि कोरोनिल दवा कोविड-19 को ठीक कर सकती है और साक्ष्यों के आधार पर इसकी पुष्टि की गई है|

WHO ने स्पष्ट किया है कि उसने किसी भी पारंपरिक औषधि को कोविड-19 के उपचार के तौर पर प्रमाणित नहीं किया है. योग गुरु रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद ने 19 फरवरी को कहा था कि WHO की प्रमाणन योजना के तहत कोरोनिल टेबलेट को आयुष मंत्रालय की ओर से कोविड-19 के उपचार में सहायक औषधि के तौर पर प्रमाण पत्र मिला है|

WHO किसी दवा को मंजूरी नहीं देता !

हालांकि, पतंजलि के प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण ने बाद में ट्वीट कर सफाई दी थी और कहा था, “हम यह साफ कर देना चाहते हैं कि कोरोनिल के लिए हमारा WHO जीएममी अनुपालन वाला COPP प्रमाण पत्र DGCI, भारत सरकार की ओर से जारी किया गया. यह स्पष्ट है कि WHO किसी दवा को मंजूरी नहीं देता. WHO विश्व में सभी के लिए बेहतर भविष्य बनाने के वास्ते काम करता है”|

सोमवार को IMA की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, “देश का स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते, पूरे देश के लोगों के लिए झूठ पर आधारित अवैज्ञानिक उत्पाद को जारी करना कितना न्यायसंगत है. क्या आप इस कोरोना रोधी उत्पाद के तथाकथित क्लिनिकल ट्रायल की समयसीमा बता सकते हैं?”

यह भारतीय चिकित्सा परिषद के नियमों का उल्लंघन है !

IMA ने कहा, “देश मंत्री से स्पष्टीकरण चाहता है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग को स्वतः संज्ञान लेने के लिए भी पत्र लिखेगा. यह भारतीय चिकित्सा परिषद के नियमों का उल्लंघन है.” IMA ने कहा, “WHO से प्रमाणन की सरासर झूठी बात पर गौर करके इंडियन मेडिकल एसोसिशन स्तब्ध है.” गौरतलब है कि हरिद्वार स्थित पतंजलि आयुर्वेद ने कोविड-19 के उपचार के लिए कोरोनिल के प्रभावकारी होने के संबंध में शोध पत्र जारी करने का दावा भी किया था|

Share: