khabar7 logo
uttra-khand

उत्तराखंड : कोरोना के चलते चार धाम यात्रा रद्द, मंदिरों में सिर्फ पुजारी ही करेंगे पूजा !!

by Khabar7 - 29-Apr-2021 | 12:37:26
उत्तराखंड : कोरोना के चलते चार धाम यात्रा रद्द, मंदिरों में सिर्फ पुजारी ही करेंगे पूजा !!

29 अप्रैल 2021,

हाईलाइट्स -

देशभर के कई राज्यों में लॉकडाउन और नाईट कर्फ्यू !

उत्तराखंड सरकार ने रद्द की चार धाम यात्रा !

अगले महीने से शुरू होने वाली थी चार धाम यात्रा !

देहरादून !!

कोरोना महामारी के चलते आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. इसके चलते देश भर के कई राज्यों में लॉकडाउन और नाईट कर्फ्यू भी लगा हुआ है. इसके अलावा कोरोना के चलते ऐसी सभी गतिविधियां पर रोक लगाई जा रही हैं जिसमें अधिक से अधिक लोगों के जुटने की संभावना हो. इसी कड़ी में आज उत्तराखंड सरकार ने इस साल होने वाली चार धाम यात्रा को रद्द करने का फैसला किया है. उत्तराखंड सरकार द्वारा लिए गए फैसले के मुताबिक चार धाम यात्रा को रद्द किया गया है और बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री में स्थित मंदिरों के पुरोहितों को ही अनुष्ठान और पूजा करने की अनुमति रहेगी. चार धाम यात्रा अगले महीने मई से शुरू होने वाली थी|

मई में शुरू होने वाली थी चारधाम यात्रा !

देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा अगले महीने मई से शुरू होने वाली थी. इसके तहत उत्तराखंड स्थित बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री की यात्रा की जाती है और इसमें लाखों की संख्या में श्रद्धालु हर साल उत्तराखंड आते हैं. अक्षय तृतीया के दिन 14 मई से यमुनोत्री मंदिर के कपाट खुलने से इस यात्रा की शुरूआत होनी थी. 14 मई को गंगोत्री मंदिर के कपाट, 17 मई को केदारनाथ मंदिर के कपात और 18 मई को बद्रीनाथ मंदिर के कपाट खुलने थे|
 
IRCTC ने पेश किया था टूर पैकेज !

चार धाम यात्रा को लेकर IRCTC ने टूर पैकेज पेश किया था जिसके तहत 11 दिन 12 दिन के टूर पैकेज के लिए दिल्ली से प्रति व्यक्ति 43850 रुपये का किराया तय किया गया था. इसके अलावा बसों की बुकिंग भी शुरू हुई थी लेकिन कोरोना महामारी के चलते बुकिंग नहीं हो पा रही थी. पिछले हफ्ते मीडिया को यात्रा मैनेजमेंट ज्वाइंट रिलेशन कमेटी के प्रेसिडेंट सुधीर रॉय ने जानकारी दी थी कि हर साल इस समय यात्रा के लिए कम से कम 500 बसों की एडवांस बुकिंग हो जाती थी लेकिन इस बार अभी तक एक भी पैसेंजर बस की बुकिंग नहीं हो पाई थी|

Share: