khabar7 logo
khabar-seven

बिहार में भाजपा अध्यक्ष की पहली चुनाव रैली : कोरोना गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां !!

by Khabar7 - 14-Oct-2020 | 09:52:36
बिहार में भाजपा अध्यक्ष की पहली चुनाव रैली : कोरोना गाइडलाइन की उड़ी धज्जियां !!

14 अक्टूबर 2020,

"खबर7" ब्यूरो.... पटना से...श्रवण राज की रिपोर्ट पर दिल्ली से ...शंभू नाथ गौतम !

भारतीय जनता पार्टी की सरकार केंद्र में है।  कोरोना महामारी से बचने के लिए केंद्र ही राज्य सरकारों को दिशा-निर्देश देता आया है।  'कोविड-19 बचाव के लिए स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले सात महीने से लगातार देश की जनता को भिन्न-भिन्न तरीकों से जागरूक करने में लगे हुए हैं, लेकिन उनके ही पार्टी के मुखिया केंद्र की कोरोना गाइडलाइन से कोई इत्तेफाक नहीं रखते हैं'। 1960 के दशक का प्रसिद्ध गीत याद करिए' मझधार में नैय्या डोले, तो माझी पार लगाए, माझी जो नाव डुबोए उसे कौन बचाए' ? 

जी हां, इस गीत की पंक्तियां भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की  कार्यप्रणाली पर सटीक बैठती हैं। यहां बात बिहार चुनाव की हो रही है। हालांकि मोदी सरकार में वर्तमान भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा स्वयं भी स्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं। लेकिन इससे क्या फर्क पड़ता है, मामला तो सत्ता वापसी का है और सत्ता पाने के लिए भाजपा और उसके कर्ताधर्ता कुछ भी करने को तैयार हैं।  फिर चाहे पूरे पूरे देश की कोविड-19 से बचाव की गंभीर कोशिशों को पलीता ही क्यों न लग जाए।

पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा'रविवार को राजधानी दिल्ली से सीना तानकर मीडिया को यह बयान देकर निकले थे कि, बिहार विधानसभा चुनाव में कोविड-19 में मोदी सरकार के नियमों का पूरी तरह से पालन करूंगा, लेकिन बिहार पहुंचते-पहुंचते नियमों को जेपी नड्डा ने दरकिनार कर दिया'।
'भाजपा नेता और कार्यकर्ताओं का उत्साह और जुनून देखकर धार्मिक नगरी गया में रविवार शाम एक चुनावी सभा में स्वयं ही कूद पड़े।

बिहार के चुनावी महासंग्राम में नड्डा ने गया में सार्वजनिक चुनावी जनसभा करके  चुनाव की हुंकार भर डाली नड्डा के जोश को देखते हुए कार्यकर्ताओं में इतनी जुनून सवार हो गया और पूरी जनसभा में भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई। गया कि जिस रैली में  नड्डा  मोदी सरकार की डिजिटल उपलब्धियों  की जमकर तारीफ कर रहे थे  उसी रैली में उन्होंने अपनी मौजूदगी में कोविड-19 की जमकर धज्जियां उड़ने दी।

पहली जनसभा : मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग गायब
 
कोरोना महामारी के बीच हो रहे बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा की यह पहली जनसभा गया में आयोजित की गई थी। और अपनी पहली रैली में ही भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कोरोना गाइडलाइन और चुनाव आयोग द्वारा कोविड-19 के मद्देनजर जारी विशेष दिशा निर्देशों को ताक पर रख दिया। गया की जनसभा के दौरान कहीं भी नहीं लगा कि कोरोना नियमों का पालन किया जा रहा है ।‌ 

आपको बता दें कि 'भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष इससे पहले मोदी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री भी रह चुके हैं। एक पूर्व केंद्रीय मंत्री जिसके पास स्वास्थ्य मंत्रालय रहा हो और जो वर्तमान में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद पर आसीन हो कम से कम उन्हें इस महामारी के नियमों का पालन करना चाहिए था'। भाजपा की पहली राजनीतिक जनसभा में गया शहर के गांधी मैदान में 5 se 6 hajar की संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।

जनसभा के दौरान मुख्य द्वार पर सैनिटाइजर और थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था तो की गई थी लेकिन सैनिटाइजर की बोतल इस इंतजार में रही कि कब कौन आकर उसका इस्तेमाल करेगा थर्मल गन का भी कुछ ऐसा ही हाल था, लेकिन किसी भी नेता और कार्यकर्ता ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।  'मास्क भी पूरी जनसभा के दौरान शोपीस ही नजर आए, मंच पर कुर्सियों के बीच दूरी जरूर थी, लेकिन लोगों के लिए लगाई गई कुर्सियों के लिए इसका ख्याल नहीं रखा गया'। यहां हम आपको विशेष रुप से बता दें कि, सभा में दो गज की दूरी केवल मंच पर नजर आई, भीड़ में देखने को नहीं मिली। चुनाव चिन्ह वाला मास्क बांटा जरूर गया था, लेकिन उसे पहनने की दिलचस्पी लोगों में नहीं दिखी। लोगों को दूरी बनाने और मुंह-नाक ढंकने के लिए जागरूक करता कोई नेता या कार्यकर्ता नजर नहीं आया। 

बखान डिजिटल उपलब्धियों का लेकिन मंच सार्वजनिक !

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गया में चुनावी रैली के दौरान सार्वजनिक मंच से मोदी सरकार के डिजिटल उपलब्धियों का बखान कर रहे थे । लेकिन वह यह भूल गए कि वह जहां खड़े हैं वह स्थान भी पब्लिक प्लेस है। ऐसे में उनको भी इस महामारी के नियमों को ध्यान रखना चाहिए था । नड्डा ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार के सहयोग से ही अब जमीन ड्रोन से मापी जाएगी। 6 लाख 32 हजार गांव में इसका लाभ मिलेगा। डिजिटल नपाई से पूरी जमीन का विवरण एक डिजिटल कार्ड में दर्ज होगा, यह किसी ने नहीं सोचा था कि आज बिहार में स्मार्ट सिटी से लेकर हाईवे बने हैं, बिहार में विकास के नए आयाम लिखे जा रहे हैं ।

जेपी नड्डा ने कहा कि देश को डिजिटल बनाने में केंद्र की मोदी सरकार की बड़ी भूमिका रही है । इस दौरान उन्होंने बीजेपी सरकार की उपलब्धियों का बखान किया,  नड्डा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने डिजिटल माध्यम से ही कोरोना महामारी में 20 करोड़ लोगों तक जनधन खाते में 1500 रुपये पहुंचा दिए हैं। गया कि इस रैली में डिजिटल उपलब्धियों का बखान करते करते नड्डा  कोविड-19  की गाइडलाइंस का पालन कर आना ही भूल गए। बेहतर होगा कि नड्डा अपनी अगली चुनावी रैलियों में कोरोना गाइडलाइन का विशेष ध्यान रख सकें, अगर एक पूर्व स्वास्थ्य मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ही कोविड-19 के नियमों की अनदेखी करेंगे तो भाजपा कार्यकर्ताओं का आलम क्या होगा।

Share: